गजब ! ये शाकाहारी बंधु करेंगे अटलांटिक में नौकायात्रा
डेली मेल के अनुसार, दो शाकाहारी भाइयों ने अटलांटिक के आर-पार नौकायात्रा कर इतिहास बनाने का संकल्प किया है।

ग्रेग बेली और जूड मैसी नामक भाइयों का यह जोड़ा ग्रैन कैनरिया से बारबाडोस तक 3,000 मील की दूरी की नौकायात्रा करेंगे, जिसे अब तक केवल 317 लोगों ने सफलतापूर्वक पूरा किया है। तीन महीने की यह लंबी यात्रा सेम, फलियां, और नट्स से बने फ्रिज के सूखे भोजन पर ही पूरी की जायेगी। 100 प्रतिशत वनस्पतिक आहारों के साथ अटलांटिक-पार की नौकायात्रा करने वाले ये पहले लोग होंगे।

अपने आहार से संबंधित सवालों के जवाब में, बेली ने कहा, "लोग प्रोटीन के बारे में पूछते रहते हैं लेकिन हम आपको बता दें कि एक सामान्य भोजन में जो कुछ भी होता है, हम उन्हें बस एक विशेष शाकाहारी आहार में बदल कर ग्रहण करेंगे।" दोनो भाई अपने पिता के सम्मान में यात्रा कर रहे हैं जिनका दो साल पहले निधन हो गया था।

वनस्पतिक आहार स्वास्थ्य के लिये सर्वोत्तम है। विशेषज्ञों ने पता लगाया है कि वनस्पति आधारित आहार कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह और मोटापे का खतरा कम कर देता है। वास्तव में, मेयो क्लिनिक के शोधकर्ताओं ने पाया कि लंबे समय तक शाकाहार ग्रहण करने वाले लोगों का जीवन-काल उनके मांसाहारी समकक्षों की तुलना में औसतन 3.6 साल अधिक रहा।

हमें हाल ही में इन स्वास्थ्य लाभों के बारे में याद दिलाया गया था जब 88 वर्षीय कोलोराडो निवासी शाकाहारी फ्रेड डिस्टेलहॉस्ट ने माउंट किलिमंजारो पर्वत पर चढ़ने वाले सबसे बूढ़े व्यक्ति के रूप में विश्व रिकॉर्ड बनाया था।

और अब हम इन दो भाइयों बेली और मैसी को एथलीटों की एक लंबी सूची में जोड़ते हैं जिन्होंने शाकाहारी आहार का लाभ उठाया है। टेनिस विजेता सेरेना विलियम्स, एनएफएल खिलाड़ी डेविड कार्टर, बॉडीबिल्डर पॅट्रिक बाबूमियाँ, और अन्य लोगों ने पौष्टिक वनस्पतिक आहार के बल पर सफलता अर्जित की है।

हमारे ऊपर विश्वास नहीं हो रहा? शाकाहारी एथलीटों पर आधारित इस वीडियो को स्वयं देख लीजिये !


वनस्पतिक आहार न केवल आपके स्वास्थ्य के लिये उत्त्म है बल्कि यह पृथ्वी और पर्यावरण की रक्षा भी करता है और साथ ही अनगिनत पशुओं को फ़ैक्ट्री फ़ार्मॊं पर मिलने वाले अकल्पनीय यतनाओं से भी बचाता है।

फ़ैक्ट्री फ़ार्मों पर सूअर, गायों और मुर्गियां को मात्र एक वस्तु समझा जाता है। उनका छोटा सा जीवन पीड़ा और यतनाओं से भरा होता है। वे कठोर कारावास, बर्बर अंगभंग और अंत में खूनी, हिंसक मौत का शिकार होते हैं।

शाकाहार अपनाने के लिए तैयार हैं? शुरू करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये!

फोटो क्रेडिट: डेली मेल
व्यंजनों, नए उत्पाद टिप्स, और बहुत कुछ के साथ सूचित रहें
और शाकाहारी समाचार