वायरल कैंपेन के बाद बंद हुई आस्ट्रेलियाई पशु निर्यातक कंपनी
हाल के वर्षों में दो चीजों का प्रसार बहुत तिव्रता से हुआ है, एक सोशल मीडिया और दूसरा वनस्पतिक आहार शैली। वास्तव में, सोशल मीडिया के विकास के साथ वनस्पतिक जीवन शैली का प्रचार-प्रसार एवं पशु-अत्याचार के विरुद्ध आवाज़ उठाना पहले से बहुत ही आसान एवं प्रभावशाली हो गया है।

सोशल मीडिया पर तेजी से प्रचारित हुए कई वीडियो एवं 60 मिनट, आस्ट्रेलिया पर एक विस्फोटक वृतांत के बाद वेस्टर्न आस्ट्रेलियाई सरकार ने पशु निर्यातक कंपनी इमेन्युएल एक्स्पोर्ट्स का लायसेंस निरस्त कर दिया।

कृषि एवं जल विभाग ने घोषणा किया कि कंपनी का लायसेंस रद्द कर दिया है। कंपनी द्वारा दिए गए कारण बताओ नोटिस की पूरी समीक्षा अभी बाकी है। आस्ट्रेलिया के लगभग आधे भेंड़ निर्यात व्यवसाय पर एमेन्युएल एक्स्पोर्ट्स का कब्ज़ा है। इस कंपनी के निर्यात-यान पर पिछले साल, अत्यधिक गर्मी के कारण 2,400 भेंड़ो की जान चली गयी थी।

कंपनी पर अभी क्षमता से अधिक पशुओं को रखने, उन्हें पर्याप्त भोजन एवं पानी नहीं देने, पशुओं के घाव एवं रोगों का उपचार नहीं करवाने एवं भेड़ों को उतारने से पहले ही पशु-चिकित्सकों एवं भंडारणकर्त्ता द्वारा यान छोड़ने के आरोपों की आपराधिक एवं विभागीय जाँच चल रही है।

गार्जियन के अनुसार, निर्यात-वाहन की कठिन परिस्थियों के बीच, वर्ष 2017 में आस्ट्रेलिया से अन्य देशों में लगभग 600,000 भेंड़ों का निर्यात किया गया था। पिछले 30 वर्षों में आस्ट्रेलियाई पशु निर्यात उद्योग लगभग 20 करोड़ भेंड़ों का निर्यात कर चुका है। इस दौरान परिवहन में लगभग 25 लाख पशुओं की जान जा चुकी है। विगत अप्रैल महीने में, इनके अंदर देखने पर आस्ट्रेलियाई लोग का गुस्सा भड़क गया था।

प्रशिक्षु नौवाहक फ़ैसल उल्लाह के द्वारा प्राप्त एवं एबसी और एनिमल्स आस्ट्रेलिया को दिये गए इस विस्मयकारी अंडरकवर फ़ुटेज में गंदे वारों में भरे हुए भेंड़ों को दिखाया गया है जो मध्यपूर्व के देशों भेजे जाने के क्रम में तंग पिंजरों में कैद, गर्मी से आहत एवं भोजन तक पहुँचने के लिए एक दूसरे पर लदे हुए थे।

मई से अक्तूबर के बीच मध्य-पूर्व के देशों में मेमनों और गर्भभती भेड़ों के परिवहन पर संघीय प्रतिबंध के बावजूद, इस घोर पीड़ाजनक वीडियो में पता चलता है कि किस प्रकार मृत भेंड़ो को जहाज से नीचे फेंका जा रहा जिन्हें उन्हीं के गर्म ऊन के ढ़ेर पर ज़िन्दा भेंड़ों को पकाया गया था।

देखिए हृदयविदारक वीडियो


इसी प्रकार, गाय, सूअर और मुर्गे-मुर्गियों को भी परिवहन के दौरान कठोर मौसमी परिवर्तनों एवं तंग-गंदे पिंजरों की त्रासदी समेत क्रूरतम यातनाओं का सामना करना पड़ता है।

मर्सी फ़ोर एनिमल द्वारा कनाडा के ट्रांसपोर्ट उद्योग पर किए गये गुप्त जाँच में विस्मयकारी पशु-अत्याचारों का खुलासा होता है। खुले और रिसते घाव के साथ चलने में असमर्थ बीमार सूअरों को सरकारी अधिकारियों के सामने ही मजदूरों द्वारा दर्दनाक तरीके से बेहोश किया जा रहा था। परिवहन के दौरान मर गये सूअरों के साथ ही साथ घायल एवं बीमार सूअरों को भी बारंबार निर्दयतापूर्वक मारा-पीटा एवं घसीटा जा रहा था। उन्हें बिना किसी उपयुक्त पशु-चिकित्सा के छोड़ दिया गया था और मजदूर इन संवेदनशील नर सूअरों को बिना किसी दर्दनिवारक दवा दिए, उनके दातों को बोल्ट कटर से काट रहे थे।

भारत में, कुछ राज्य की सरकारों ने खाद्य पशुओं के निर्यात एवं हत्या पर रोक लगाने के लिए कदम उठाये हैं। एक राज्य में गैर-कानूनी वधशालाओं पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है जबकि कुछ अन्य राज्य गोहत्या एवं गोमांस उत्पादन के विरुद्ध कठोर कानून अपना रहे हैं। लेकिन, प्रशासनिक आदेश ही काफ़ी नहीं है। पशु-अत्याचार के विरुद्ध अधिकाधिक लोगों को खड़े होने एवं आवाज उठाने की एवं इस क्रूरतम पशु हत्या एवं निर्यात उद्योग को समर्थन करने से बचने की जरूरत है।


जून में, मर्सी फ़ोर एनिमल ने ब्राज़िल में अनेक पशु-अधिकार संगठनों के सहयोग से जीवित पशुओं के परिवहन के विरुद्ध अभियान चलाया था। मर्सी फ़ोर एनिमल, ब्राज़िल द्वारा समर्थित हत्या के उद्देश्य से भेजे जा रहे जीवित गायों के परिवहन पर रोक लगाने वाला कानून शीघ्र ही साओ पाउलो राज्य में पारित किया जाएगा।

साओ पाउलो के परिवहन यान की गायें हों या कनाडा के ट्रकों पर लदे हुए सूअर, या आस्ट्रेलिया के निर्यात-जहाजों में भरे हुए भेंड़, हममें पर्याप्त शक्ति है कि हम इन सभी जीवों पर परिवहन यानों में होने वाले अत्याचारों को रोक सकते हैं।

अपनी थाली से पशु उत्पादों को हटाकर आप इस बर्बर उद्योग को समर्थन देना बंद कर सकते हैं, जो संवेदनशील एवं बुद्धिमान जीवों को सिर्फ़ कार्गो के बेजान सामान के रूप में देखता है। पूर्णतः शाकाहारी जीवन अपनाने से संबंधित परामर्शों के लिए यहाँ क्लिक कीजिए। 
व्यंजनों, नए उत्पाद टिप्स, और बहुत कुछ के साथ सूचित रहें
और शाकाहारी समाचार