भयानक: जान बचाने के लिए जहाज से कूदी गाय ! पानी में डूबकर मरी !!
ऑस्ट्रेलिया में एक निर्यात-जहाज पर लादे जाने के दौरान, एक गाय जहाज के किनारे से छलांग लगाकर भाग गयी। बेचारी गाय सारी रात तैरते हुए किनारे तक पहुंचाने की कोशिश करती रही। अगली सुबह डोंगी यात्रियों के एक समूह ने निरीह पशु की सहायता करने का प्रयास किया, लेकिन दुर्भाग्यवश, तब तक वह थकावट के मारे मर चुकी थी।


डोंगी यात्री पैम रॉबर्ट्स ने एक साक्षात्कार में कहा:

हम मदद करने के लिए गए क्योंकि हमारे पास बड़ी नाव थी। हम में से कुछ लोग पानी में भी उतरे। वे गाय के चारों ओर लाइफ़ जैकेट डालकर उसे एक रस्सी के सहारे किनारे लाने की कोशिश करते रहे, लेकिन लगता है कि वह अत्यधिक थक चुकी थी। यह बेहद दुःखद था।

यह दो साल में दूसरी बार है कि एक पशु अपना जीवन बचाने के लिए निर्यात जहाज से कूद गया।

2016 में, इसी प्रकार पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में एक और गाय ने अपने अपरिहार्य दुर्भाग्य से बचने के लिए चलते हुए निर्यात जहाज से छलांग लगा दिया था। बाद में यह बचाव दल को तट पर मृत मिली। वह भी थकावट से ही मरी थी।

प्रति वर्ष हजारों गाय, सूअर, मुर्गियाँ और मछली सिर्फ़ भोजन के लिए हिंसक रूप से मारे जाते हैं। कई पशु अपने क्रूर भाग्य से बचने के लिए दुस्साहसी कदम तक उठा लेते हैं। हमारे द्वारा पाले एवं प्यार किए जाने वाले कुत्ते और बिल्लियों की तरह ही समझदार एवं सहनशील होने के बावजूद फ़ार्म्ड पशुओं को अकल्पनीय पीड़ा, क्रूर व्यवहार, नृशंस अंगभंग और कठोर कैद का शिकार होना पड़ता है।

सच्चाई यह है कि कोई भी पशु आपका भोजन बनने के लिए मरना नहीं चाहता है।

यदि यह कहानी आपको छूती है, लेकिन आप अभी भी पशु उत्पादों का उपभोग कर रहे हैं, तो समय है कि आप अपने खाद्य विकल्पों को अपने वैचारिक मूल्यों के साथ जोड़िए। दया का मार्ग चुनिए और गाय एवं अन्य पशुओं को अपनी थाली से अलग कीजिए। शुरू करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए।
व्यंजनों, नए उत्पाद टिप्स, और बहुत कुछ के साथ सूचित रहें
और शाकाहारी समाचार