हार्वर्ड वैज्ञानिक: यदि हर व्यक्ति शाकाहारी हो जाए तो एक तिहाई असमय मौत को रोका जा सकता है।
हार्वर्ड स्कूल ऑफ मेडिसिन द्वारा किए गये एक नये अध्ययन में पाया गया है कि दुनियाँ का हर व्यक्ति पूर्णतः शाकाहारी हो जाए तो कम से कम एक तिहाई समय से पहले होने वाले मौतों को रोका जा सकता है

हाल ही में आयोजित एक कंफ्रेन्स में इस अध्ययन को प्रस्तुत करते हुए चिकित्सकों ने कहा कि वनस्पतिक आहार के लाभों को बहुत ही कम कर आँका गया है। वास्तव में, यदि लोग मांसाहार का त्याग कर दें तो प्रति वर्ष लगभग 200,000 लोगों की जान बचायी जा सकती है।

हार्वर्ड में महामारीविज्ञान एवं पोषण-शास्त्र के प्रोफ़ेसर, डा. वाल्टर विल्लेट कहते हैं:

जब हम इस तरफ़ देखते हैं तो हम पाते हैं कि स्वास्थ्यवर्द्धक आहार का संबंध उन सभी चीजों से है, जिसके बारे में हम बात कर रहे हैं। शायद शरीर के सभी अवयवों का पोषण एक ही अन्तर्निहित विधि से होता है।

टोरंटो विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर डेविड जेन्किन्स जिन्हें ग्लायसेमिक इंडेक्स विकसित करने का श्रेय है, ने कहा कि मनुष्य को बंदर-सदृश आहार (सिमियन डायट) ग्रहण करना चाहिए। ठीक वैसा ही भोजन जैसा कि निम्न-स्थलीय गुरिल्ला करते हैं, पत्ते, तना और फल। इस प्रकार का आहार हृदयाघात की संभावना को कम करने में बड़ा ही सशक्त होता है और कोलेस्ट्राल को भी प्रभावी तरीके से कम कर सकता है वो भी दवाओं से होने वाले कुप्रभाव के बिना।

अनेक अध्ययनों में सिद्ध हो चुका है कि पशु-उत्पादों के मुकाबले वनस्पति आधारित आहार महत्वपूर्ण रूप से अधिक स्वास्थ्यवर्द्धक हैं। वैज्ञानिकों ने बारंबार दर्शाया है कि वनस्पतिक आहार कैंसर, हृदयरोग, मधुमेह एवं मोटापे के जोखिम को कम करता है। वास्तव में, मायो क्लिनिक ने पाया कि मांसाहारियों की तुलना में लंबी अवधि तक पूर्णतः शाकाहारी व्यक्ति औसतन 3.6 वर्ष अधिक जीता है

वनस्पतिक आहार न केवल आपके स्वास्थ्य के लिए उत्तम है बल्कि यह पर्यावरण की भी रक्षा करता है और अनगिनत पशुओं को फ़ैक्ट्री फ़ार्मों के नारकीय जीवन से बचाता है।

फ़ैक्ट्री फ़ार्मों पर पशुओं को बर्बर अंगभंग, कठोर कैद, नृशंस हत्या जैसे घोर यातनाओं का शिकार होना पड़ता है।

देखिए।


तो, किस बात की प्रतीक्षा कर रहे हैं आप? वनस्पतिक आहार अपनाकर अपने स्वास्थ्य के साथ-साथ पशुओं की रक्षा भी कीजिए। शुरु करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए।
व्यंजनों, नए उत्पाद टिप्स, और बहुत कुछ के साथ सूचित रहें
और शाकाहारी समाचार