हम शाकाहारी होना चाहते हैं लेकिन पनीर (Cheese) के आदी हैं। क्या करें? 
हाई स्कूल के दिनों में हमने फ़ैक्ट्री फ़ार्मिंग से संबंधित एक वीडियो देखा। पशुओं के साथ इतनी नितांत क्रूरता और दुर्व्यवहार सिर्फ़ इसलिये होती है कि हम उन्हें खा सकें! हमने अविलंब मांसाहार त्यागने का निर्णय लिया।

उसके बाद हमने दुग्ध एवं अंडा उद्योग में निहित अत्याचारों के बारे में जाना और हम वास्तव में समस्त पशु-उत्पादों का परित्याग करना चाहते थे। और एक मात्र पनीर के अलावे हमने सबकुछ छोड़ दिया। पनीर हमें इतना पसंद था कि हम इसके बिना जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकतेI

और पता है? हमने किसी तरह इसे भी छोड़ ही दिया और इसकी इसकी कमी कभी नहीं खलती है। सात सालों के वनस्पतिक जीवन के बाद हमने पनीर छोड़ने को लेकर एक-दो बातें समझ पाये।

कुछ नई चीजें अजमाइये।

पनीर समेत आपके तमाम प्रिय व्यंजनों का वनस्पतिक अवतार उपलब्ध है। कई सारे रेस्टोरेंट कई प्रकार के वनस्पतिक पनीर परोसते हैं, आपको कुछेक का स्वाद लेना चाहिये... शायद आपका एक और पसंदीदा व्यंजन मिल जाये। अगर आपको कोई एक चीज पसंद नहीं आती, तो आगे बढ़िये... अपने प्रिय व्यंजन की तलाश मत रोकिये ।

क्रीमी (मलाईदार) व्यंजन बनायें

काजू-क्रीम, वनस्पतिक मेयो, अवोकाडो और तहिनी से भी व्यंजनों को मलाईदार (और थोड़ा वसायुक्त भी) और संतोषप्रद बना सकते हैं।

अपने आस-पास वनस्पतिक पिज़्ज़ा ढूँढिये

हमारे लिये सबसे मुश्किल यह था कि हम यह सोच रहे थे कि हम अब पिज़्ज़ा नहीं खा पायेंगे। संयोग से, यह सच्चाई से परे था। कई सारे पिज़्ज़ा-घरों में वनस्पतिक पिज़्ज़ा परोसा जाता है।

खुद बनाइये।

यद्यपि खुद से वनस्पतिक पनीर बनाने में काफ़ी समय और कार्यकुशलता की जरूरत होती है, लेकिन कुछ ऐसे सरल व्यंजन हैं जिसे कोई भी बड़ी आसानी के साथ बना सकता है।

पौष्टिक खमीर (यीस्ट) खरीदिये।

हाँ, मुझे पता है कि इसका नाम अच्छा नहीं है मगर यह वास्तव में एक अच्छा पदार्थ है। शाकाहारियों में यह खासा लोकप्रिय है और दुनियाँभर के वनस्पतिक रसोईयों में एक निश्चित मिलने वाली सामग्री है। लाजवाब वैकल्पिक पनीर से लेकर दुग्धरहित नाचो चीज-डीप बनाने तक में खमीर (न्युट्रीशनल यीस्ट) का को मुकाबला नहीं है।

अपना दृष्टिकोण बरकरार रखें।

याद रखिये कि आपने दुग्ध उत्पादों का त्याग क्यों किया था : पशु अत्याचार ! डेयरी फ़ार्मों पर गायें कठोर कैद, नृशंस हत्या की शिकार होती हैं। इस पर भी तुर्रा यह कि उन्हें उन तमाम चीजों से वंचित होना पड़ता है जो प्राकृतिक रूप से उन्हें मिलना चाहिये... जैसे कि अपने बच्चों का ख्याल रखने का मौका।

अपनी थाली से पनीर को हटाकर आप पशु, पर्यावरण और अपने स्वास्थ्य के लिये बहुत बड़ा काम कर रहे हैं।
व्यंजनों, नए उत्पाद टिप्स, और बहुत कुछ के साथ सूचित रहें
और शाकाहारी समाचार