दुनिया की सबसे बड़ी मांस प्रसंस्करण कंपनी के मुनाफे में आई 80 प्रतिशत की गिरावट
दुनिया की सबसे बड़ी मांस प्रसंस्करण कंपनी, ब्राज़ील की जेबीएस एसए, ने 2017 की दूसरी तिमाही के शुद्ध मुनाफे में तेज गिरावट की सूचना दी है। मांस उद्योग के वेबसाइट मीटिंगप्लेसडॉटकॉम के मुताबिक, कंपनी के शुद्ध मुनाफे में पिछले साल के इसी तिमाही के मुकाबले करीब 80 प्रतिशत की भारी गिरावट दर्ज की गयी है।

ब्राजील, अर्जेंटीना, परागुए और उरुग्वे में बीफ़-ऑपरेशन के प्रभारी इकाई के रूप में कार्यरत जेबीएस मर्कोसुल के राजस्व में एक 14 प्रतिशत की गिरावट के साथ-साथ बिक्री में भी 21.9 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। कंपनी के प्रसंस्कृत खाद्य इकाइयों सेयारा के शुद्ध राजस्व में 6.1 प्रतिशत की गिरावट आयी है।

कंपनी ने बताया कि मुनाफे में कमी उनके प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ और लैटिन अमेरिकी गोमांस इकाइयों द्वारा कम बिक्री का परिणाम है। लेकिन यह कहानी का बस एक हिस्सा है।

इससे पहले इस साल के शुरुआत में ब्राज़ीलियाई पुलिस ने एक दर्जन से अधिक मांस पैक्डिंग प्लांटो पर छापा मारा था। "ऑपरेशन वीक मीट" नामक जांच अभियान में, सड़े हुए मांस के प्रसंस्करण एवं स्वच्छता संबंधित अनैतिक शर्तों और खतरनाक प्रथाओं को अनदेखा करने के लिए मांस पैकरों द्वारा निरीक्षकों एवं राजनेताओं को रिश्वत देने की 40 से अधिक घटनाओं को उजागत किया गया था। जाँच में पुलिस ने पाया कि सूअरों के सिर को कुचलकर सॉस में मिलाया गया था, मुर्गे के मांस में कार्डबोर्ड मिश्रित पाया गया था और मांसों के सड़न की बदबू को छिपाने के लिये उनमें रासायनिक पदार्थ इंजेक्ट किया गया था। संघीय अधिकारियों ने यह भी पाया कि कुछ कंपनियों ने स्पेन और इटली जैसे देशों को निर्यात के लिए प्रमाण-पत्रों में हेरफेर किया था। जेबीएस एसए. भी उन कंपनियों में से एक थी जिन पर जाँच की गयी और जांच के बाद यह पुष्टि की गयी कि कंपनी के दो अधिकारियों को घोटाले में गिरफ्तार किया गया था।

घोटाले के बाद दो हफ्तों में, जेबीएस एसए के गोमांस उत्पादन में 35 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आई और कंपनी ने अपने 36 गोमांस वध-संयंत्रों में से 33 को तीन दिनों के लिए निलंबित रखा था। कई देशों ने ब्राजील के मांस उद्योग के साथ व्यापार पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया, जिनमें से कुछ इसके सबसे बड़े आयातक थे। ब्राजील की वित्तीय कंपनी बीटीजी पैक्ट्यूअल के मुताबिक, ब्राजील के कुल बीफ़ निर्यात का 53 प्रतिशत हिस्सा चीन, हांगकांग, मिस्र और चिली जैसे देशों में जाता है। प्रतिबंध के पहले दिन, ब्राजील का दैनिक मांस निर्यात 63 करोड़ डॉलर से लेकर 74,000 डॉलर तक गिर गया।

यह बड़ा घोटाला ब्राजील के मांस उद्योग में भ्रष्टाचार की संस्कृति को दर्शाता है लेकिन इसका सबसे बड़ा मूल्य तो बेचारे जानवरों को अपनी जान देकर चुकाना पड़ता है। फ़ैक्ट्री-फ़ार्मों पर पशुओं को न केवल बेरहमी से कत्ल किया जाता है बल्कि गंदे और अत्याचारी फ़ैक्ट्री फ़ार्मों पर उनका पूरा जीवन नारकीय यातनाओं से भरा होता है।

जेबीएस और इसी तरह की अमानवीय कंपनियों से अविलंब अपना समर्थन वापस ले लीजिये, जो मानव स्वास्थ्य और जानवरों के जीवन की कीमत पर अपना लाभ कमाते हैं। वनस्पति आधारित आहार अपनाने में मदद के लिए यहाँ क्लिक कीजिये।
व्यंजनों, नए उत्पाद टिप्स, और बहुत कुछ के साथ सूचित रहें
और शाकाहारी समाचार